1.2 / October 22, 2017
(4.2/5) (208)
Loading...

Description

शब्दकोश एक बडी सूची या ऐसा ग्रंथ जिसमें शब्दों की वर्तनी, उनकीव्युत्पत्ति, व्याकरणनिर्देश, अर्थ, परिभाषा, प्रयोग और पदार्थ आदि कासन्निवेश हो । शब्दकोश एकभाषीय हो सकते हैं, द्विभाषिक हो सकते हैं याबहुभाषिक हो सकते हैं। अधिकतर शब्दकोशों में शब्दों के उच्चारण केलिये भी व्यवस्था होती है, जैसे - अन्तर्राष्ट्रीय ध्वन्यात्मक लिपिमें, देवनागरी में या आडियो संचिका के रूप में । कुछ शब्दकोशों मेंचित्रों का सहारा भी लिया जाता है । अलग-अलग कार्य-क्षेत्रों के लियेअलग-अलग शब्दकोश हो सकते हैं; जैसे - विज्ञान शब्दकोश, चिकित्साशब्दकोश, विधिक (कानूनी) शब्दकोश, गणित का शब्दकोश आदि।सभ्यता औरसंस्कृति के उदय से ही मानव जान गया था कि भाव के सही संप्रेषण के लिएसही अभिव्यक्ति आवश्यक है। सही अभिव्यक्ति के लिए सही शब्द का चयनआवश्यक है। सही शब्द के चयन के लिए शब्दों के संकलन आवश्यक हैं।शब्दों और भाषा के मानकीकरण की आवश्यकता समझ कर आरंभिक लिपियों के उदयसे बहुत पहले ही आदमी ने शब्दों का लेखाजोखा रखना शुरू कर दिया था। इसके लिए उस ने कोश बनाना शुरू किया। कोश में शब्दों को इकट्ठा कियाजाता है।प्रस्तुत कोश एक प्रयोग है । विभिन्नप्रकार के व्यावहारिकशब्दों का संग्रह कर के उनका यित्र संकलित कर के इस कोश का निर्माणकिया जा रहा है । यह मात्र इक दिशा है । इसमे हिन्दी शब्द लिए गए हैंउनके हिन्दी अर्थ पिरयोगादि । फिर संस्कृत अर्थ तथा उन संस्कृत शब्दोंका कोश आदि भी संकलित करने का प्रयास किया गया है । साथ ही चित्र भीदिया गया है । आशा है यह प्रयास संस्कृत सीखने वालों के लिए सार्थकसिद्ध होगा ।

App Information Hindi Sanskrit Chitrakosh

  • App Name
    Hindi Sanskrit Chitrakosh
  • Package Name
    com.srujanjha.visualhindidictionary
  • Updated
    October 22, 2017
  • File Size
    Undefined
  • Requires Android
    Android 4.0.3 and up
  • Version
    1.2
  • Developer
    Srujan Jha
  • Installs
    10,000+
  • Price
    Free
  • Category
    Education
  • Developer
  • Google Play Link

Srujan Jha Show More...

Sanskrit-Hindi Dictionary 1.4 APK
Srujan Jha
Developed By:- Shruti JhaDirected By:- Prof. Madan MohanJhaSanskrit-Hindi Dictionary on Android provides a learningexperience as never before.This App has Sanskrit words and theirmeanings that are intuitive and relevant for the continuouslyevolving learning needs of today’s kids and adults. Keeping that inmind,words are handpicked.Sanskrit-Hindi Dictionary on Android isinfectious; once glued - the quest of Knowledge will never end.Theapp works in completely offline mode. If you haven’t tried or triedbut are still looking; check it out, NOW!"
Sanskrit Ashtadhyayi Sutrani 3.8 APK
Srujan Jha
Developed By: Srujan JhaDirected By: Prof. Madan Moha JhaWhat makesit better, is it being completely offline. The user gets offlineaccess to Panini Ashtadhyayi Sutras with Commentaries(Vyakhya(kashika), Kashika Vriti, Laghu-Siddhanta Kaumudi,Balmanorama, Nyas and Tatva Bodhini). Apart from these, you alsoget access to Sutra, padcheda, Samasa, and its meaning withexamples.The Ashtadhyayi is one of the earliest known grammars ofSanskrit, although Pāṇini refers to previous texts like theUnadisutra, Dhatupatha, and Ganapatha. It is the earliest knownwork on linguistic description, and together with the work of hisimmediate predecessors (the Niruktas, Nighantus, and Pratishakyas)stands at the beginning of the history of linguistics itself. Histheory of morphological analysis was more advanced than anyequivalent Western theory before the mid 20th century, and hisanalysis of noun compounds still forms the basis of modernlinguistic theories of compounding, which have borrowed Sanskritterms such as bahuvrihi and dvandva.Pāṇini's comprehensive andscientific theory of grammar is conventionally taken to mark theend of the period of Vedic Sanskrit, introducing the period ofClassical Sanskrit.Features:1. Completely OFFLINE- Vyakhya.2. Youcan change the font-size as per your needs in the Vyakhyasection.3. Three different kinds of searching for sutra- Searchtool on the top action bar, Fast scroll, and Tapping on a letter.
Siddhanta Kaumudi | Sanskrit 3.1 APK
Srujan Jha
Developed By:- Srujan JhaDirected By:- Prof. Madan MohanJhaSiddhānta Kaumudī is a celebrated Sanskrit commentary byBhaṭṭoji Dīkṣita (early 17th century) on the Aṣṭādhyāyī and isbelieved to be more popular than Pāṇini’s work. It re-arranges thesūtras of Pāṇini under appropriate heads and offers exposition thatis orderly and easy to follow.The sutras are arranged in two parts– the first part deals with the rules of interpretation, sandhis,declensions, formation of feminines, case endings, compounds,secondary derivations and the second part with conjugation, primarysuffixes, Vedic grammar and accents.This app is a tool which bringsthe whole Siddhanta Kaumudi to your phone.
EDU-NET 1.0 APK
Srujan Jha
Developed By:- Shruti JhaDirected By:- Prof. Madan Mohan JhaEDU-NETon Android provides a learning experience as never before.The basicobjective of National Eligibility Test or NET is to determineeligibility for college & university level lectureship and foraward of Junior Research Fellowship (JRF) for Indian nationals inorder to ensure minimum standards for the entrants in the teachingprofession and research.EDU-NET comprises of question papers ofprevious years of this examination in a more subtle way oflearning. The papers are provided in terms of quizzes. Each quizcan be timed. The score is calculated as +1 for correct answer and0 for wrong answer.EDU_NET is a start and will keep on updatingitself with more of quiz features as well as more of previous yearsquestion papers.EDU-NET on Android is infectious; once glued - thequest of Knowledge will never end. If you haven’t tried or triedbut are still looking; check it out, NOW!"
Panini Ashtadhyayi | Sanskrit 2.6 APK
Srujan Jha
Developed By:- Srujan JhaDirected By:- Prof. Madan Mohan JhaTheAshtadhyayi is one of the earliest known grammars of Sanskrit,although Pāṇini refers to previous texts like the Unadisutra,Dhatupatha, and Ganapatha. It is the earliest known work onlinguistic description, and together with the work of his immediatepredecessors (the Niruktas, Nighantus, and Pratishakyas) stands atthe beginning of the history of linguistics itself. His theory ofmorphological analysis was more advanced than any equivalentWestern theory before the mid 20th century, and his analysis ofnoun compounds still forms the basis of modern linguistic theoriesof compounding, which have borrowed Sanskrit terms such asbahuvrihi and dvandva.Pāṇini's comprehensive and scientific theoryof grammar is conventionally taken to mark the end of the period ofVedic Sanskrit, introducing the period of Classical Sanskrit.Theapp bring the whole grammar to your mobile.Special thanks tosanskritdocuments.org for providing the resources.
Sanskrit-English Dictionary 1.8 APK
Srujan Jha
Developed By:- Shruti JhaDirected By:- Prof. Madan MohanJhaSanskrit-English Dictionary on Android provides a learningexperience as never before.This App has Sanskrit words and theirmeanings that are intuitive and relevant for the continuouslyevolving learning needs of today’s kids and adults. Keeping that inmind,words are handpicked.Sanskrit-English Dictionary on Android isinfectious; once glued - the quest of Knowledge will never end. Ifyou haven’t tried or tried but are still looking; check it out,NOW!"
Dhaatu Roopmala | Sanskrit 3.8 APK
Srujan Jha
The Sanskrit verbal system is very complex, with verbs inflectingfor different combinations of tense, aspect, mood, number, andperson. Participial forms are also extensively used.There are twobroad ways of classifying Sanskrit verbal roots. They are:Parasmaipadi (परस्मैपदी) and Atmanepadi (आत्मनेपदी). But some rootsare Ubhayapadi (उभयपदी) i.e. they are conjugated as Parasmaipadi aswell as Atmanepadi roots. Verbs are classified into Ten gaṇas andSeṭ and aniṭ roots.The app provides verb forms of all kinds. Inbrief, it is the whole sanskrit grammar in you mobile.The app workscompletely offline, making it a great grab for yourphone.Acknowledgements: Department of Sanskrit Studies, Universityof Hyderabad, Hyderabad
Amarkosh | Sanskrit 1.7 APK
Srujan Jha
अमरकोश संस्कृत के कोशों में अति लोकप्रिय और प्रसिद्ध है। इसे विश्वका पहला समान्तर कोश (थेसॉरस्) कहा जा सकता है। इसके रचनाकार अमरसिंहबताये जाते हैं जो चन्द्रगुप्त द्वितीय (चौथी शब्ताब्दी) के नवरत्नोंमें से एक थे। कुछ लोग अमरसिंह को विक्रमादित्य (सप्तम शताब्दी) कासमकालीन बताते हैं। इस कोश में प्राय: दस हजार नाम हैं, जहाँ मेदिनीमें केवल साढ़े चार हजार और हलायुध में आठ हजार हैं। इसी कारण पंडितोंने इसका आदर किया और इसकी लोकप्रियता बढ़ती गई। अमरकोश श्लोकरूप मेंरचित है। इसमें तीन काण्ड (अध्याय) हैं। स्वर्गादिकाण्डं,भूवर्गादिकाण्डं और सामान्यादिकाण्डम्। प्रत्येक काण्ड में अनेक वर्गहैं। विषयानुगुणं शब्दाः अत्र वर्गीकृताः सन्ति। शब्दों के साथ-साथइसमें लिङ्गनिर्देश भी किया हुआ है।अन्य संस्कृत कोशों की भांतिअमरकोश भी छंदोबद्ध रचना है। इसका कारण यह है कि भारत के प्राचीनपंडित "पुस्तकस्था' विद्या को कम महत्व देते थे। उनके लिए कोश का उचितउपयोग वही विद्वान् कर पाता है जिसे वह कंठस्थ हो। श्लोक शीघ्र कंठस्थहो जाते हैं। इसलिए संस्कृत के सभी मध्यकालीन कोश पद्य में हैं।इतालीय पडित पावोलीनी ने सत्तर वर्ष पहले यह सिद्ध किया था कि संस्कृतके ये कोश कवियों के लिए महत्त्वपूर्ण तथा काम में कम आनेवाले शब्दोंके संग्रह हैं। अमरकोश ऐसा ही एक कोश है।अमरकोश का वास्तविक नामअमरसिंह के अनुसार नामलिगानुशासन है। नाम का अर्थ यहाँ संज्ञा शब्दहै। अमरकोश में संज्ञा और उसके लिंगभेद का अनुशासन या शिक्षा है।अव्यय भी दिए गए हैं, किन्तु धातु नहीं हैं। धातुओं के कोश भिन्न होतेथे (काव्यप्रकाश, काव्यानुशासन आदि)। हलायुध ने अपना कोश लिखने काप्रयोजन कविकंठ-विभूषणार्थम् बताया है। धनंजय ने अपने कोश के विषय मेंलिखा है - मैं इसे कवियों के लाभ के लिए लिख रहा हूँ (कवीनांहितकाम्यया)। अमरसिंह इस विषय पर मौन हैं, किंतु उनका उद्देश्य भी यहीरहा होगा।अमरकोश में साधारण संस्कृत शब्दों के साथ-साथ असाधारण नामोंकी भरमार है। आरंभ ही देखिए- देवताओं के नामों में लेखा शब्द काप्रयोग अमरसिंह ने कहाँ देखा, पता नहीं। ऐसे भारी भरकम और नाममात्र केलिए प्रयोग में आए शब्द इस कोश में संगृहीत हैं, जैसे-देवद्रयंग याविश्द्रयंग (3,34)। कठिन, दुलर्भ और विचित्र शब्द ढूंढ़-ढूंढ़कर रखनाकोशकारों का एक कर्तव्य माना जाता था। नमस्या (नमाज या प्रार्थना)ऋग्वेद का शब्द है (2,7,34)। द्विवचन में नासत्या, ऐसा ही शब्द है।मध्यकाल के इन कोशों में, उस समय प्राकृत शब्द भी संस्कृत समझकर रखदिए गए हैं। मध्यकाल के इन कोशों में, उस समय प्राकृत शब्दों केअत्यधिक प्रयोग के कारण, कई प्राकृत शब्द संस्कृत माने गए हैं;जैसे-छुरिक, ढक्का, गर्गरी (प्राकृत गग्गरी), डुलि, आदि।बौद्ध-विकृत-संस्कृत का प्रभाव भी स्पष्ट है, जैसे-बुद्ध का एकनामपर्याय अर्कबंधु। बौद्ध-विकृत-संस्कृत में बताया गया है किअर्कबंधु नाम भी कोश में दे दिया। बुद्ध के 'सुगत' आदि अन्य नामपर्यायऐसे ही हैं।अपार हर्ष के साथ सूचित कर रहा हूँ कि इस अमरकोश ग्रन्थ काएण्ड्रॉयड एप्लीकेशन अभी प्रस्तुत है । इसमें वर्ग के अनुसार उनकेशब्द तथा शब्दों के पर्याय पद को दर्शाया गया है । साथ ही उपयोगकर्ताके सौलभ्य हेतु सभी शब्दों का शब्दकल्पद्रुम तथा वाचस्पत्यम् के साथसाथ वीलियम मोनियर डिक्शनरी तथा आप्टे अंग्रेजी डिक्शनरी भी दिया गयाहै । आशा है कि उपयोगकर्ता विद्वान अपना सहत्वपूर्ण राय अवश्य देंगे ।
Loading...