1.7 / February 9, 2020
(4.5/5) (396)
Loading...

Description

Developed By:- Shruti Jha Directed By:- Prof. Madan Mohan JhaShabdakalpadruma on Android provides a learning experience as neverbefore.This App has Sanskrit words and their meanings withreference that are intuitive and relevant for the continuouslyevolving learning needs of today’s kids and adults. Keeping that inmind,words are handpicked.Shabdakalpadruma on Android isinfectious; once glued - the quest of Knowledge will never end. Theapp works in completely offline mode. If you haven’t tried or triedbut are still looking; check it out, NOW!"

App Information Shabdakalpadruma | Sanskrit

  • App Name
    Shabdakalpadruma | Sanskrit
  • Package Name
    org.shrutijha.sanskrit_sanskrit
  • Updated
    February 9, 2020
  • File Size
    18M
  • Requires Android
    Android 4.1 and up
  • Version
    1.7
  • Developer
    Srujan Jha
  • Installs
    10,000+
  • Price
    Free
  • Category
    Education
  • Developer
  • Google Play Link

Srujan Jha Show More...

Siddhanta Kaumudi APK
Srujan Jha
Developed By:- Srujan JhaDirected By:- Prof. Madan Mohan JhaSiddhānta Kaumudī is a celebrated Sanskrit commentary by BhaṭṭojiDīkṣita (early 17th century) on the Aṣṭādhyāyī and is believed tobe more popular than Pāṇini’s work. It re-arranges the sūtras ofPāṇini under appropriate heads and offers exposition that isorderly and easy to follow.The sutras are arranged in two parts – the first part deals withthe rules of interpretation, sandhis, declensions, formation offeminines, case endings, compounds, secondary derivations and thesecond part with conjugation, primary suffixes, Vedic grammar andaccents.This app is a tool which brings the whole Siddhanta Kaumudi to yourphone.
Vachaspatyam | Sanskrit 2.1 APK
Srujan Jha
Developed By:- Srujan Jha Directed By:- Prof. Madan Mohan JhaVachaspatyam on Android provides a learning experience as neverbefore.This App has Sanskrit words and their meanings withreference that are intuitive and relevant for the continuouslyevolving learning needs of today’s kids and adults. Keeping that inmind,words are handpicked.Vachaspatyam on Android is infectious;once glued - the quest of Knowledge will never end. The app worksin completely offline mode. If you haven’t tried or tried but arestill looking; check it out, NOW!"
Shabdakalpadruma | Sanskrit 1.7 APK
Srujan Jha
Developed By:- Shruti Jha Directed By:- Prof. Madan Mohan JhaShabdakalpadruma on Android provides a learning experience as neverbefore.This App has Sanskrit words and their meanings withreference that are intuitive and relevant for the continuouslyevolving learning needs of today’s kids and adults. Keeping that inmind,words are handpicked.Shabdakalpadruma on Android isinfectious; once glued - the quest of Knowledge will never end. Theapp works in completely offline mode. If you haven’t tried or triedbut are still looking; check it out, NOW!"
Shabdroopmala | Sanskrit 4.0 APK
Srujan Jha
Developed By:- Shruti Jha Directed By:- Prof. Madan Mohan JhaShabdroopmala on Android provides a learning experience as neverbefore. This app has word forms of various different words inSanskrit for all Gender, Vibhaktis and Vachana. The app alsofeatures three Vachans and seven Vibhaktis of the word form. Theapp works in completely offline mode.
BookMyBook 1.0 APK
Srujan Jha
BookMyBook is a one-stop e-commerce search engine that searchesover 150 million books for sale—new, used, rare, out-of-print, andtextbooks. We save you time and money by searching every majorcatalog online, and letting you know which booksellers are offeringthe best prices and selection. When you find a book you like, youcan buy it directly from the original seller; we never charge amarkup. Reading books is a hobby that most of us do not devote timeto specifically, but on a rainy day when nothing else seemsinteresting, a quick peek into your bookshelf will reveal hiddengems that will keep you enthralled for the next several hours.Books also improve your knowledge span, in small ways and big, andgreatly broaden your vocabulary as well. Which is also why abibliophile will always sound smarter without meaning to, than onewho restricts the amount of literature that he absorbs from thisworld. Indulge yourself or your children with boxed sets oftimeless classics and family favorites; they will becomehand-me-downs that will impart more character to the futuregeneration than any heirloom ever can. Helping you get ahead inlife with an edge over the herd are the entrance exam preparatorybooks that give you all possible combinations of any test you evermight be interested in taking. Make your college life easier withtext and reference books while professionals glean the most out oftheir jobs with supplements of how-to and technical books. Open upa Pandora's box of literature for you and your kids with all thefiction titles in every language imaginable; instill nurture thelove for books at an early stage, which is the greatest gift youcan give your offspring, with age-specific book for children andteenagers. Features: > BookMyBook dynamically grabs results fromvarious online shopping portals and provides the best deal to thecustomer who can then directly be redirected to the shopping portaloffering the best deal. > It also provides you a platform to buyyou book from these 7 stores you choose. > It has a constantlyexpanding portfolio of very high quality sites. > Book Cover,details, and summary are also provided by the service, hence,letting you choose the best. > This is our start and we arerelentlessly focused on making it convenient for customers to find,discover and shop their hearts desire using our service. > Weare keen to hear your opinion, so, please share any feedback youmay have for us.
Amarkosh | Sanskrit 2.1 APK
Srujan Jha
अमरकोश संस्कृत के कोशों में अति लोकप्रिय और प्रसिद्ध है। इसे विश्वका पहला समान्तर कोश (थेसॉरस्) कहा जा सकता है। इसके रचनाकार अमरसिंहबताये जाते हैं जो चन्द्रगुप्त द्वितीय (चौथी शब्ताब्दी) के नवरत्नोंमें से एक थे। कुछ लोग अमरसिंह को विक्रमादित्य (सप्तम शताब्दी) कासमकालीन बताते हैं। इस कोश में प्राय: दस हजार नाम हैं, जहाँ मेदिनीमें केवल साढ़े चार हजार और हलायुध में आठ हजार हैं। इसी कारण पंडितोंने इसका आदर किया और इसकी लोकप्रियता बढ़ती गई। अमरकोश श्लोकरूप मेंरचित है। इसमें तीन काण्ड (अध्याय) हैं। स्वर्गादिकाण्डं,भूवर्गादिकाण्डं और सामान्यादिकाण्डम्। प्रत्येक काण्ड में अनेक वर्गहैं। विषयानुगुणं शब्दाः अत्र वर्गीकृताः सन्ति। शब्दों के साथ-साथइसमें लिङ्गनिर्देश भी किया हुआ है।अन्य संस्कृत कोशों की भांतिअमरकोश भी छंदोबद्ध रचना है। इसका कारण यह है कि भारत के प्राचीनपंडित "पुस्तकस्था' विद्या को कम महत्व देते थे। उनके लिए कोश का उचितउपयोग वही विद्वान् कर पाता है जिसे वह कंठस्थ हो। श्लोक शीघ्र कंठस्थहो जाते हैं। इसलिए संस्कृत के सभी मध्यकालीन कोश पद्य में हैं।इतालीय पडित पावोलीनी ने सत्तर वर्ष पहले यह सिद्ध किया था कि संस्कृतके ये कोश कवियों के लिए महत्त्वपूर्ण तथा काम में कम आनेवाले शब्दोंके संग्रह हैं। अमरकोश ऐसा ही एक कोश है। अमरकोश का वास्तविक नामअमरसिंह के अनुसार नामलिगानुशासन है। नाम का अर्थ यहाँ संज्ञा शब्दहै। अमरकोश में संज्ञा और उसके लिंगभेद का अनुशासन या शिक्षा है।अव्यय भी दिए गए हैं, किन्तु धातु नहीं हैं। धातुओं के कोश भिन्न होतेथे (काव्यप्रकाश, काव्यानुशासन आदि)। हलायुध ने अपना कोश लिखने काप्रयोजन कविकंठ-विभूषणार्थम् बताया है। धनंजय ने अपने कोश के विषय मेंलिखा है - मैं इसे कवियों के लाभ के लिए लिख रहा हूँ (कवीनांहितकाम्यया)। अमरसिंह इस विषय पर मौन हैं, किंतु उनका उद्देश्य भी यहीरहा होगा। अमरकोश में साधारण संस्कृत शब्दों के साथ-साथ असाधारण नामोंकी भरमार है। आरंभ ही देखिए- देवताओं के नामों में लेखा शब्द काप्रयोग अमरसिंह ने कहाँ देखा, पता नहीं। ऐसे भारी भरकम और नाममात्र केलिए प्रयोग में आए शब्द इस कोश में संगृहीत हैं, जैसे-देवद्रयंग याविश्द्रयंग (3,34)। कठिन, दुलर्भ और विचित्र शब्द ढूंढ़-ढूंढ़कर रखनाकोशकारों का एक कर्तव्य माना जाता था। नमस्या (नमाज या प्रार्थना)ऋग्वेद का शब्द है (2,7,34)। द्विवचन में नासत्या, ऐसा ही शब्द है।मध्यकाल के इन कोशों में, उस समय प्राकृत शब्द भी संस्कृत समझकर रखदिए गए हैं। मध्यकाल के इन कोशों में, उस समय प्राकृत शब्दों केअत्यधिक प्रयोग के कारण, कई प्राकृत शब्द संस्कृत माने गए हैं;जैसे-छुरिक, ढक्का, गर्गरी (प्राकृत गग्गरी), डुलि, आदि।बौद्ध-विकृत-संस्कृत का प्रभाव भी स्पष्ट है, जैसे-बुद्ध का एकनामपर्याय अर्कबंधु। बौद्ध-विकृत-संस्कृत में बताया गया है किअर्कबंधु नाम भी कोश में दे दिया। बुद्ध के 'सुगत' आदि अन्य नामपर्यायऐसे ही हैं। अपार हर्ष के साथ सूचित कर रहा हूँ कि इस अमरकोश ग्रन्थका एण्ड्रॉयड एप्लीकेशन अभी प्रस्तुत है । इसमें वर्ग के अनुसार उनकेशब्द तथा शब्दों के पर्याय पद को दर्शाया गया है । साथ ही उपयोगकर्ताके सौलभ्य हेतु सभी शब्दों का शब्दकल्पद्रुम तथा वाचस्पत्यम् के साथसाथ वीलियम मोनियर डिक्शनरी तथा आप्टे अंग्रेजी डिक्शनरी भी दिया गयाहै । आशा है कि उपयोगकर्ता विद्वान अपना सहत्वपूर्ण राय अवश्य देंगे ।
Shabdakalpadruma | Sanskrit ONLINE 1.5 APK
Srujan Jha
Developed By:- Shruti Jha Directed By:- Prof. Madan Mohan JhaShabdakalpadruma on Android provides a learning experience as neverbefore.This App has Sanskrit words and their meanings withreference that are intuitive and relevant for the continuouslyevolving learning needs of today’s kids and adults. Keeping that inmind,words are handpicked.Shabdakalpadruma on Android isinfectious; once glued - the quest of Knowledge will never end. Theapp works in completely offline mode. If you haven’t tried or triedbut are still looking; check it out, NOW!"
Pustak Sangdarshika 1.0 APK
Srujan Jha
इस पुस्तक संदर्शिका में उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान, लखनऊ केपुस्तकालय में उपलब्ध पुस्तकों तथा पांडुलिपियों की सूची दी गई है।संदर्शिका लगभग 19000 पुस्तकों तथा 4000 पांडुलिपियों को सम्मिलित करबनाई गई है । विविध विषयों पर हिंदी भाषा में लिखित लगभग 2000पुस्तकों तथा संस्कृत विषय पर अंग्रेजी में लिखित 1000 पुस्तकों कीसूची को भी सम्मिलित किया गया है। देवनागरी लिपि तथा इंग्लिश मेंलिखित पुस्तकों के लिए 1. पुस्तक 2. लेखक 3. विषय के नाम से अलग - अलगखोज की सुविधा दी गई है। हस्तलिखित पांडुलिपियों को 1. हस्तलिपि केनाम से तथा 2. विषय के नाम से खोजने की सुविधा उपलब्ध है। जिन संस्कृतपुस्तकों की अनेक प्रतियां अथवा टीका उपलब्ध है, उसपर क्लिक करने परलेखक एवं टीकाकार का नाम खुलता है। यहां चयन कर पुस्तक का विस्तृतविवरण प्राप्त किया जा सकता है । जिन पुस्तकों के अनेक नाम प्राप्तहोते हैं, उन्हें अलग-अलग प्रदर्शित किया गया है। पुस्तक तथा लेखक नामके पूर्व लिखे गये आलंकारिक उपाधियों, मंगलवाची पदों यथा श्री, अथ,डॉ., आचार्य आदि को हटाकर टंकित किया गया है,तथापि असावधानीवश कुछ शेषरह गये हैं। वर्तनी की विविधता के कारण एक ही पुस्तक तथा लेखक के नामअलग अलग हो जाते हैं। यथा तत्त्व तत्व, चिंतन चिन्तन, रघुवंशम् तथारघुवंशमहाकाव्यम् , रामकिशोर राम किशोर आदि । अतः वर्णक्रम से खोजकरने वाले खोजकर्ता अलग - अलग वर्तनी तथा प्रचलित नाम के वर्णक्रम मेंभी देखें। उपर्युक्त के समाधान तथा आपकी सुविधा हेतु कीवर्ड सर्च कीसुविधा दी गयी है । उपयोगकर्ताओं की सुविधा को ध्यान में रखकर किन्हींउपविषयों को मूल वर्ग में तो किसी उपविषय को विषय के रूप में रखा गयाहै। कुछ पुस्तकों को अवर्गीकृत श्रेणी में रखा गया है। विषय से खोज केक्रम में यदि पुस्तक उपलब्ध नहीं हो तो पुस्तक नाम अथवा लेखक के नामसे ढूंढना चाहिए । पुस्तकालय में जिन पुस्तकों की एक प्रतियां उपलब्धहैं, वहाँ एक परिग्रहण संख्या दी गयी है।एक से अधिक प्रतियों के लिएप्रत्येक पुस्तक की पृथक् - पृथक् परिग्रहण संख्या दर्शायी गयी है।अनेक भाग वाले पुस्तकों के भाग संख्या में , चिह्न देकर अन्य भाग कीसंख्या लिखी है। पुस्तकों का विषय विभाजन संस्कृत वाङ्मय को केंद्रमें रखकर किया गया है। आशा है सुधी उपयोगकर्ता उपयोग के द्वारा इसकेसैद्धांतिक पक्ष से परिचित हो जाएंगे । भविष्य में इसमें और अधिकपरिवर्तन तथा संशोधन किया जाता रहेगा। प्रोफेसर मदन मोहन झा तथा इनकेसुपुत्र श्री सृजन झा ने सर्वसुलभ इस पुस्तक संदर्शिका के द्वारापुस्तकालय में भंडारित पुस्तकों तथा हस्तलेखों को जन-जन के Androidफोन तक पहुँचाकर सबके लिए ज्ञान का द्वार उद्घाटित कर दिया है। इसमेंमैं निमित्तमात्र हूं । संस्कृत जगत् प्रो. झा का चिर आभारी रहेगा ।मैं किन शब्दों में कृतज्ञता अर्पित करूं? जगदानन्द झा प्रशासनिकअधिकारी उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान, लखनऊ
Loading...